दहेज़- इस कुचक्र का अंत कब ?

दहेज़ सिर्फ सोशल मीडिया या आश पास में चिंतन-बहस करने से खत्म नही होगा | ये समाज में एक शैतान की तरह है | इसके लिए पुरे समाज को एकजुट हो  साथ आना होगा और इसे कई सामाजिक समेल्लनों में … Continue reading दहेज़- इस कुचक्र का अंत कब ?

Sticky post

About me and why have I chosen the development sector?

I am Rajeev Ranjan, a development professional as well technology enthusiasm. I tell you the journey, a touch of my previous background, I belong from a small village of Hazaribag district (Jharkhand) and I did my schooling from a government … Continue reading About me and why have I chosen the development sector?

दयाल साव: विषम परिस्थितियों में उभरते कलाकार

दयाल साव, गाँव नापो खुर्द, बड़कागाँव के निवासी है | बड़कागाँव एक ऐसा क्षेत्र है, जहाँ ज्यादातर लोग खेती-मजदूरी कर अपना जीवन यापन करते हैं | बड़कागाँव खनिज सम्पदा से परिपूर्ण है और यहाँ के लोग मेहनतकस हैं| इसके विपरीत, आज भी … Continue reading दयाल साव: विषम परिस्थितियों में उभरते कलाकार

झूठ-सच-राजनीति

भारत में गरीबी रेखा से निचे रहने वाले लोगों की संख्या 21.92% है |झारखण्ड, छतीसगढ़ के बाद दूसरा सबसे पिछड़ा राज्य है | झारखण्ड  में गरीबी रेखा से निचे रहने वाले लोगों की संख्या 36.96% है | ये सरकारी आंकड़ा … Continue reading झूठ-सच-राजनीति

किसान भाइयों का उल्टा बिज़नस

छोटे बिज़नस, या अधिकतर बिज़नस का एक मूल स्वभाव ये है की – थोक में खरीदो और खुदरा में बेचो I ज्यादातर मामलों में लोग  ऐसे  ही लाभ भी कमाते हैं I  किन्तु किसान भाइयों के मामले में ये उल्टा … Continue reading किसान भाइयों का उल्टा बिज़नस

Accessible India! When and How ?

We need a friendly infrastructure and change in mindset of people~ Rajvi Gosalia. I am Rajvi a young girl living in Gujarat. I have completed my bachelors in economics then I worked in a company where I was a team leader for four years. In future I want to be a motivational speaker. I am suffering from cerebral palsy and I am a wheel chair user. I cannot walk. I have to struggle with my family at every step in my life but we both have accepted it and moving ahead happily in life or at least we keep on … Continue reading Accessible India! When and How ?